अफगानिस्‍तान में फंसे अपने नागरिकों को निकालने पहुंचे यूक्रेन के विमान को हाईजैक कर लिया गया है। इस बात का दावा खुद यूक्रेन के मंत्री ने किया है।

उनके मुताबिक इस विमान को कुछ अज्ञात लोगों ने बंधक बनाया है। यूक्रेन के डिप्‍टी विदेश मंत्री येवगिने येनिन ने कहा है कि इस विमान को पहले ईरान ले जाया गया।

येनिन के मुताबिक इस विमान को जबरदस्‍ती ईरान ले जाया गया है। उन्‍होंने ये भी बताया है कि काबुल से अपने नागरिकों को लाने के सरकार के तीन इवेक्‍युएशन अटेंप्‍ट फिलहाल साबित हुए हैं। इसकी वजह ये थी कि उनके नागरिक काबुल एयरपोर्ट पर नहीं पहुंच सके थे।

तास एजेंसी के मुताबिक विमान को बंधक बनाने वाले सभी अज्ञात लोग हथियारों से लैस थे। हालांकि येनिन ने इस बात का खुलासा नहीं किया है कि काबुल में फंसे यूक्रेन के नागरिक अब कैसे वापस आएंगे।

उनके लिए क्‍या कोई दूसरा विमान वहां पर भेजा जाएगा या नहीं। न ही उन्‍होंने ये ही बताया कि इस विमान पर कितने लोग सवार थे। उन्‍होंने ये भी बताया है कि विदेश मंत्री दिमित्री कुलेबा के नेतृत्‍व में कूटनीतिक स्‍तर पर इसको देखा जा रहा है।

गौरतलब है कि रविवार को यूक्रेन का मिलिट्री ट्रांसपोर्ट विमान जिसमें कुल 83 लोग सवार थे अफगानिस्‍तान से कीव आया था। इसमें 31 यूक्रेन के नागरिक थे। राष्‍ट्रपति कार्यालय के मुताबिक इससे करीब 12 यूक्रेन के जवान वापस आए थे।

इसके अलावा इसमें कुछ रिपोर्टर और दूसरी पब्लिक हस्तियां भी थीं। इन सभी ने काबुल से बाहर निकलने की पेशकश की थी। यूक्रेन की तरफ से कहा गया है कि काबुल में अब भी उनके करीब सौ नागरिक वहां पर मौजूद हैं और वहां से सकुशल वापसी का इंतजार कर रहे हैं।

आपको बता दें कि दो दिन पहले ही अमेरिका ने इस बात की आशंका जताई थी कि काबुल एयरपोर्ट पर मौजूद उनके जवानों पर इस्‍लामिक स्‍टेट (आईएस) के आतंकी हमला कर सकते हैं। अब संयुक्‍त राष्‍ट्र ने भी इसी बात की आशंका दोहराई है। यूक्रेन के विमान का हाईजैक होना कहीं न कहीं गलत संकेत दे रहा है।

Share.

Comments are closed.