थाना क्षेत्र के मिरगावा गांव की घटना

फफूंद (औरैया)
थाना क्षेत्र के एक गांव में सन्दिग्ध परिस्थितियों में अधेड़ ने साड़ी से फंदा बनाकर बबूल के पेड़ पर फाँसी लगा कर जान देदी। सुबह गांव के लोगो के देखने पर स्वजनों को जानकारी दी जानकारी होते ही मौके पर पहुँचे परिजनों ने गांव के एक परिवार पर मारपीट कर फाँसी पर लटकाने का आरोप लगाया है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

थाना क्षेत्र के गांव मिरगांवा निवासी 47 वर्षीय सुरेश बाबू दिवाकर पुत्र परमलाल मेहनत मजदूरी करके अपने परिवार का भरण पोषण करता है। विगत दस वर्षों से सुरेश बाबू गांव के ही राम सुदर्शन के घर पर रहते थे।

रविवार की शाम को दारू के नशे में सुरेश बाबू राम सुर्दशन के घर पर पहुँचा जहाँ पर सो गया। सुबह गांव के लोगो ने देखा कि उसका शव पेड़ पर लटका हुआ है। उन्होंने तत्काल स्वजनों को सूचना दी सूचना मिलते ही मौके पर पहुँची पुलिस ने शव को उतरवाकर पंचायतनामा भर कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

मृतक के पिता परमलाल ने बताया कि दस वर्षों से हमारा पुत्र राम सुदर्शन के यहां रह रहा था। जिसकी रविवार को मारपीट कर राम सुदर्शन व उसके पुत्र ने हत्या कर के शव को फाँसी पर लटका दिया है।
मृतक के दो लड़के व एक लड़की अंशु कुमार 20 वर्ष,प्रांशु 18 वर्ष,प्रतीक्षा 16 वर्ष है।

इस सम्बंध में थानाध्यक्ष श्रवण कुमार तिवारी ने बताया कि परिजनों दो लोगो पर आरोप लगा रहे थे जिनको पूँछताछ के लिए थाने लेकर आया हूँ। शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद कार्यवाही की जाएगी।.

Share.

Comments are closed.