औरैया सदर कोतवाली क्षेत्र में दुष्कर्म की ऐसी घटना सामने आई है, जिसे सुनने वालों के दिल कांप जाएं। औरैया-दिबियापुर मार्ग पर एक भट्टा में काम करने वाले मजदूर ने डेढ़ वर्ष की मासूम को अपनी हवस का शिकार बना डाला।

मासूम को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया तो डॉक्टरों ने उसे इटावा सैफई मेडिकल कालेज अस्पताल रेफर कर दिया है। घटना की जानकारी के बाद इलाकाई लोगों में आक्रोश है, वहीं पुलिस ने आरोपित मजदूर युवक को हिरासत में लेकर कार्रवाई शुरू की है।

लोग पुलिस से आरोपित को कड़ी सजा देने की बात कह रहे हैं, फिलहाल घटना का संज्ञान लेकर छानबीन के लिए पुलिस अफसर भी पहुंच रहे हैं।

शहर के दिबियापुर-औरैया मार्ग पर एक ईंट भट्टा है, जहां पर आसपास के जनपदों से आकर कई मजदूर काम करते हैं। मजदूर परिवार के साथ ईंट भट्ठे के पास ही रहते हैं।

पुलिस के अनुसार एक मजदूर महिला रात में भट्ठे पर काम कर रही थी। इस बीच रात में फतेहपुर निवासी रहीश उसकी एक साल बेटी को खिलाने के बहाने उठाकर ले गया था।

कुछ देर बाद बच्ची के जोर जोर से रोने की आवाज सुनी तो साथ काम कर रहे मजूदर भी पहुंच गए और नजारा देखकर सन्न रह गए। मासूम बच्ची से रहीश दुष्कर्म कर रहा था और लोगों को देखते ही वह फरार हो गया। इस बीच उसकी मां भी पहुंच गई और बच्ची को खून से लतपथ देखकर गश खाकर गिर पड़ी।

भट्ठे पर काम करने वाले दूसरे मजदूर उसे होश में लाए और आनन फानन बच्ची को लेकर अस्पताल पहुंचे। सूचना पर थाना पुलिस भी पहुंच गई और जानकारी के बाद रहीश की तलाश शुरू की। कुछ ही देर में रहीश पुलिस के हत्थे चढ़ गया।

इसकी जानकारी होते ही लोगों की भीड़ एकत्र हो गई और उसे उनके हवाले करने की बात कहने लगे। लेकिन, भीड़ को शांत कराते हुए पुलिस रहीश को कोतवाली ले गई। उधर, हालत गंभीर देखकर डॉक्टरों ने प्राथमिक उपचार के बाद बच्ची को सैफई मेडिकल कालेज अस्तपाल रेफर कर दिया है।

घटना संज्ञान में आने के बाद पुलिस अफसरों ने जांच शुरू कराई है। कोतवाली निरीक्षक संजय पांडेय ने बताया कि आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है, तहरीर मिलने पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

Share.

Comments are closed.