एक देश जहां तनाव और आतंक इतना है लोग अपनी जान बचाने के लिए चलते एरोप्लेन पर चढ़ रहे हैं।

वहां के युवाओं में इस आतंक और तनाव के बीच भी हिंदी के लिए मोहब्बत कम नहीं हुआ है आगरा के केंद्रीय हिंदी इंस्टिट्यूट में इस सेशन में अफगानिस्तान के 30,स्टूडेंट्स का सिलेक्शन हुआ था।

जिसमें से 15,ने आनलाइन क्लासरूम्स के लिए अपनी एग्रीमेंट दे दी है बाकी के स्टूडेंट्स से भी कांटेक्ट किया जा रहा है उनकी एग्रीमेंट मिलते ही सितंबर में क्लासेस शुरू कर दी जाएंगी।

केंद्रीय हिंदी संस्थान में हर साल विदेशी स्टूडेंट हिंदी पढ़ने आते हैं इस साल 31,देशों के 100,स्टूडेंट्स का सिलेक्शन किया गया था इनमें से सबसे ज्यादा 35,एप्लीकेशन अफगानिस्तान से आए थे।

Share.

Comments are closed.