…….मुनाफे के आज से अभी भी इंतजार कर रहे दुकानदार

रक्षाबंधन के त्यौहार के आने से पहले ही बाजारो में रौनक दौड़ने लगती है।

सभी दुकानदार दुकानों को मुनाफे की आस से पूंजी लगाकर राखी, मेहंदी व अन्य सजावट सामान से दुल्हन की तरह दुकान को सजाते हैं .

इस त्योहार के लिए उत्साह हर किसी के दिल में साफ दिखाई देता है।

लेकिन कोरोना काल में कारण छिने रोजगार से आम आदमी की आमदनी में आई कमी के कारण इस त्यौहार की रौनक अभी भी फीकी दिखाई दे रही है।.

लगभग लगभग सावन का पूरा महीना गुजरने वाल है और रक्षाबंधन के त्यौहार के आने में चंद दिन बचे हैं….शासन की तरफ से भी कोविड गाइडलाइन के अनुसार बाजारों और दुकानों को खोलने में रियायत दे दी गई है.

फिर भी बाजारों में इसकी रौनक अभीपूरी तरह से देखी नहीं जा रही।….. वही बिक्री को लेकर कुछ दुकानदार खुश हैं… तो कुछ दुकानदारो में अभी भी मायूसी छाई है।

वही कानपुर देहात के कस्बा झींझक, मंगलपुर, संदलपुर, सिकंदरा डेरापुर आदि बाजारों की बात की जाए तो वहां की रौनक अभी भी पूरी तरह से गुलजार नहीं हो पा रही है।

तो आपने सुना दुकानदारों का कहना है।कि बाजार में भीड़ तो नजर आती है.

लेकिन बिक्री के नाम पर खासा कुछ देखने को नहीं मिल रहा है। जबकि बाजारों में रक्षा बंधन के 15 दिन पूर्व ही खरीददारों की भीड़ नजर आया करती थी।..

ब्यूरो रिपोर्ट कमर आलम

Share.

Comments are closed.