राष्ट्रगान के अपमान के मुद्दे पर आवाज़ उठाने वाली समाज सेविका शालनी सिंह पटेल को पुलिस ने जेल भेज दिया था।
जिसके बाद समाज के कई संगठन भड़क गए और धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया ।


शालनी के जेल जाने के बाद समाज के कई संगठनों ने अशोक लाट पर धरना प्रदर्शन कर शालनी पटेल को रिहा करने और राष्ट्रगान के अपमान करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की मांग की ।


आपको बता दें कि 15 अगस्त के दिन बाँदा के नवाब टैंक के बगल में बने आक्सीजन पार्क में 151 फिट का ध्वज लगाया गया था ध्वजारोहण के बाद राष्ट्र गान हुआ था ।


शोशल मीडिया में वायरल वीडियो में दिखाया गया था कि राष्ट्रगान बज रहा है और जिले के आला अधिकारी सांसद विधायक सभी लोग चल रहे हैं ।


शोशल मीडिया में इस वीडियो के वायरल होते ही हर तरफ वहाँ मौजूद गणमान्य व्यक्तियों की आलोचना होने लगी ।
इधर समाज सेविका शालनी सिंह पटेल ने इस प्रकरण की शिकायत जिलाधिकारी के माध्यम से महामहिम राष्ट्रपति महोदय को भेजने के लिए कलेक्ट्रेट जा रहीं थी इसी बीच पुलिस ने शालनी सिंह पटेल को गिरफ्तार कर लिया और धारा 151 के तहत जेल भेज दिया ।


शालनी के जेल जाने के बाद इस प्रकरण ने तूल पकड़ लिया आज बांदा के अशोक लाट स्तम्भ के नीचे कई संगठनों के लोग धरने पर बैठ गए ।
अनशनकारियों की मांग है कि निर्दोष शालनी को रिहा किया जाए की और राष्ट्रगान का अपमान करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की जाए ।।

Share.

Comments are closed.