गोरखपुर जिले में अंधविश्वास के चक्कर में एक मासूम की हालत गंभीर बिगड़ गई। छह साल के मासूम की बीमारी झाड़-फूंक कर ठीक करने का दावा करने वाले तांत्रिक ने बच्चे के पूरे शरीर को अगरबत्तियों से जला डाला।

बच्चे की हालत नाजुक होने पर परिजन उसे अस्तपाल ले गए। जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है।

गोरखपुर के गुलरिहा इलाके की घटना
पुलिस ने आरोपी सोखा के खिलाफ केस दर्ज कर मामले की पड़ताल शुरू कर दी है। गुलरिया इलाके के ग्रामसभा सियारामपुर टोला तीनडार निवासी कन्हैया का 6 साल का मामूस बेटा कृष्णा कुछ दिनों से बीमार चल रहा था। उसे पेट में दर्द की शिकायत थी।

परिजनों ने काफी इलाज कराया लेकिन कुछ राहत नहीं हुई। इस बीच उन्हें किसी ने ग्रामसभा ठाकुरपुर नंबर दो के एक कथित सोखा के बारे में जानकारी दी।

अगरबत्ती से जला दिया पूरा शरीर
परिजनों का आरोप है कि सोखा ने बच्चे को देखकर कहा कि किसी ने उसके ऊपर जादू टोना करा दिया है, जिससे उसकी यह हालत हो गई है।

आरोप यह भी है कि सोखा ने झाड़-फूंक के नाम पर 6 वर्ष के बच्चे का पूरा शरीर अगरबत्ती से जला दिया। इससे बच्चे की हालत खराब हो गई। सोखा का दावा था कि बच्चा इससे पूरी तरह से स्वस्थ हो जाएगा।

पुलिस ने की गिरफ्तारी
इसके बाद बच्चे के पिता ने इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना पर पहुंची पुलिस आरोपी सोखा के खिलाफ केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है।

सोखा की पहचान गुलरिहा इलाके के ठाकुरपुर नंबर दो के टोला बोहा के रहने वाले मोहित निषाद पुत्र शिवचरण के रुप में हुई। इंस्पेक्टर विनोद अग्निहोत्री ने बताया कि सोखा के खिलाफ केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया गया है। मामले की पड़ताल की जा रही है।

Share.

Comments are closed.