उत्तर प्रदेश में मेरठ सहित सभी जिलों में हड़ताल करने वाले एबुंलेंस कर्मचारियों पर एफआईआर होगी। शासन के अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने सभी जिलों के पुलिस, प्रशासनिक अफसरों को हड़ताली एंबुलेंस कर्मचारियों पर एक्शन लेने का आदेश दिया है।

प्रदेश में एस्मा लागू है ऐसे वक्त कोई कर्मचारी हड़ताल नहीं कर सकता। ऐसे में कोई व्यक्ति स्वास्थ्य सेवाओं में बाधा डालता है तो उसके खिलाफ एस्मा एक्ट उल्लंघन करने पर एफआईआर कराई जाए।

मेरठ मंडल के कमिश्नर सुरेंद्र सिंह ने सभी छह जिलों के डीएम, एसएसपी को हड़ताल पर गए एंबुलेंस कर्मचारियों द्वारा स्वास्थय सेवाओं में बाधा डालने पर एफआईआर के लिए कहा है। डीएम, एसएसपी, सीएमओ को एंबुलेंस का संचालन सही तरीके से कराने की जिम्मेदारी दी है।

मेरठ में 80 में से 77 एंबुलेंस के थमे पहिए

मेरठ सहित प्रदेशभर में 102 व 108 एंबुलेंस सेवाएं प्रभावित हैं। इन एंबुलेंस सेवाओं का संचालन कर रहे कर्मचारी पिछले तीन दिनों से हड़ताल कर स्वास्थ्य सेवाओं को प्रभावित कर रहे हैं। इन दोषियों के खिलाफ विधिक प्राविधानों के तहत एफआईआर कराई जाए। ताकि एंबुलेंस का संचालन ठीक हो सके। मेरठ में 80 में से 77 एंबुलेंस के पहिये थमे हुए हैं। स्वास्थ्य विभाग 3 एंबुलेंस से काम चला रहा है।

Share.

Comments are closed.