हिमाचल के आपदा प्रबंधन निदेशक एसके मोख्ता ने बताया कि लाहौल-स्पीति के तेजिंग नाले में बाढ़ आने से 10 लोग बह गए। इनमें 7 शव बरामद हुए हैं, वहीं, तीन अभी लापता हैं। चंबा में एक व्यक्ति की मौत हुई है।

कुल्लू में हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट से जुड़े एक अधिकारी और दिल्ली के पर्यटक सहित चार लोग लापता हैं। कुल्लू में मणिकरण के पास ब्रह्मगंगा में जलस्तर बढ़ने से मां-बेटे बह गए।

मौत का मंजर: आंखों के सामने ही बह गए बहू और पोते

जम्मू-कश्मीर के पुंछ में लैंड स्लाइड के बाद तबाह हुए घर से मलबा हटाता परिवार।

मणिकरण निवासी रोशन लाल ने बताया, ‘सुबह करीब 6 बजे का समय था। अचानक तेज आवाजें सुनाई देने लगी। इसी बीच पता चला कि नदी में बाढ़ आ गई है। मैंने घर से निकलकर सुरक्षित स्थान की ओर भागने की कोशिश की।

मेरी बहू पूनम अपने 4 साल के बेटे को पीठ पर उठाकर भागने की कोशिश कर रही थी, इसी दौरान ऊपर से भारी मलबा और लकड़ी आई। पलक झपकते ही बहू और पोता मलबे में खो गए। यह मेरा दुर्भाग्य रहा कि मैं उन्हें बचाने के लिए कुछ नहीं कर पाया और कुदरत के इस कहर ने मुझे मौका तक नहीं दिया।’

Share.

Comments are closed.