बृहस्पतिवार की सुबह से शुरू हुई विभाग की कार्रवाई आज दूसरे दिन भी जारी है। देर रात डेढ़ बजे एक गाड़ी से ओम प्रकाश जायसवाल की भयोहू व नगर पालिका परिषद शाहगंज की अध्यक्ष गीता जायसवाल को जेसीज चौराहे स्थित मकान से फार्म हाउस पर ले गई।

10 मिनट बाद दूसरी गाड़ी से उनके भाई प्रदीप जायसवाल को फार्म हाउस पर ले जाया गया। जहां सुबह से ही जांच पड़ताल चल रही। इधर, वाराणसी से ओम प्रकाश जायसवाल के मोहित अग्रवाल को देर रात शाहगंज लाया गया है। आयकर विभाग की टीम उनसे पूछताछ में जुटी है।

बता दें कि आयकर विभाग की टीम ने बृहस्पतिवार सुबह आठ बजे ओम प्रकाश जायसवाल और उनके परिवार से जुड़े लोगों के जौनपुर के शाहगंज और वाराणसी स्थित आवासों और होटल, फैक्ट्री सहित कई प्रतिष्ठानों पर छापा मारा।

ओमप्रकाश की है राजनीति में ऊंची पहुंच

शराब कारोबारी से नेता बने ओमप्रकाश जायसवाल ने फर्श से अर्श तक का सफर तय किया है। वह भाजपा के बड़े नेताओं में गिने जाते हैं। वहीं, उनके भाई प्रदीप जायसवाल नगर पालिका शाहगंज के मनोनीत सभासद होने के साथ ही भाजपा के नगर अध्यक्ष हैं। जबकि खुद ओम प्रकाश जायसवाल रामलीला समिति के संरक्षक हैं। इसके अलावा सरस्वती शिशु मंदिर, सरस्वती विद्या मंदिर, आरएसएस  आदि से जुड़े हैं।

खेतासराय कस्बे के मुख्य मार्ग पर स्थित गोला बाजार खरीदने के बाद वह एक बार फिर चर्चा में थे। जिसकी कीमत 50 करोड़ रुपये से ज्यादा का बताई जाती है। बताया जाता है कि खेतासराय गोला निवासी एक व्यवसायी ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से इसकी शिकायत की थी। इसे भी कुछ लोग कार्रवाई की कड़ी से जोड़ कर देख रहे हैं।

भाई को भी मिला है गनर

ओमप्रकाश जायसवाल और उनके भाई प्रदीप जायसवाल को पुलिस ने दो सुरक्षा कर्मी उपलब्ध कराए हैं। पत्नी माधुरी जायसवाल के जिला पंचायत सदस्य पद पर हार के बाद ओम प्रकाश ने तत्कालीन पुलिस अधीक्षक राज करन नैय्यर से जान माल की सुरक्षा हेतु सुरक्षा कर्मी उपलब्ध कराने की गुहार लगाई थी। जिसके बाद मई माह में दो पुलिस कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है।

Share.

Comments are closed.