हरियाणा के गुरुग्राम जिले में एक तीन मंजिला इमारत गिरने से अफरा-तफरी मच गई। यह हादसा जिले के फर्रूखनगर के खावसपुर में हुआ. इमारत गिरने से दो दर्जन लोगों के मलबे में फंसे होने की आशंका है।

जिला प्रशासन की तमाम टीमें राहत और बचाव कार्य मे जुटी हुई है। हादसा रविवार शाम साढ़े 7 बजे हुआ। एक शख्स को जिंदा निकाल लिया गया है। फिलहाल रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है .

बताया जा रहा है इस इमारत में 15 से 20 लोग किराये पर रह रहे थे, जिनमें से कई अपने काम से बाहर गए थे। हादसे में 5 से 7 लोगों के दबे होने की आशंका जताई जा रही है।

हालांकि, रात दस बजे तक मलबे में दबे हुए लोगों की संख्या स्पष्ट नहीं हो पाई। पुलिस और दमकल की टीम मलबा हटाने में जुटी हुई है।

इमारत गुरुग्राम के रहने वाले रवींद्र कटारिया का है, जो करीब दस साल पहले बनाया गया था। बताया जा रहा है कि निर्माण सामग्री सही न होने के कारण मकान ढह गया।

श्मशान घाट के पास बने मकान के पास ही कई वेयरहाउस है। उनमें कार्यरत कर्मचारी ही यहां किराये पर रह रहे थे।

वेयरहाउस के सुरक्षा गार्ड नरेश ने बताया कि मकान की पिछली दीवार पहले गिरी, उसके बाद पांच मिनट में ही पूरा मकान जमींदोज हो गया।

डीसीपी राजीव देसवाल ने बताया कि स्थानीय लोगों से हादसे की सूचना मिलने के बाद बचाव कार्य शुरू किया गया है। फायर ब्रिगेड और पुलिस की टीम रेस्क्यू में जूटी हुई है।

अभी तक मलबे में दबे एक शख्स को रेस्क्यू कर लिया गया है. स्थानीय लोगों के मुताबिक, मलबे में कुछ लोग दबे हुए है।

Share.

Comments are closed.