Netizen news जालौन: स्थानीय कोतवाली के ग्राम सरसेला में घर के बाहर बैठे दलित युवक व उसकी दो पुत्रियों की नमस्कार न करने को लेकर गांव के ठाकुर समाज के युवक ने बेरहमी से बुरी तरह पिटाई कर दी। अब पुलिस द्वारा कार्यवाही न होने पर कुल्हाड़ी से काट कर जान से मारने की धमकी दे रहा ।

क्या है मामला ?

जानकारी के अनुसार गांव का निवासी बाबू राम अहिरवार अपनी दोनों लड़कियों के साथ घर के बाहर बैठा हुआ था।
तभी गांव के निवासी महेंद्र सिंह ठाकुर का पुत्र जोतेंद्र सिंह वहां से अपनी बाइक पर सबार होकर निकला तभी रास्ते मे कुत्ता आ गया।

कुत्ते के बचाने के चक्कर में उसकी बाइक फिसल गई और वह लड़खड़ा गया। इस पर खिसियानी बिल्ली खंभा नोचने वाला हाल हो गया जिसे हम अपनी खिसियाइल का गुस्सा दलित परिवार पर उतार दिया।

घर के बाहर बैठें बाबू राम अहिरवार व उसकी पुत्रियों से बोला कि मुझे नमस्कार क्यों नही किया। इसी बात को लेकर जितेंद्र सिंह ने गुम्मा (कच्ची मिट्टी का टुकड़ा) उठा कर बाबू राम की तरह फेका और जाति सूचक गालियां देने लगा।

जब बाबूराम अहिरवार की पुत्रियों ने दबंग का विरोध किया तो उसने बाबू राम व उसकी पुत्रियों की बेरहमी से बुरी तरह पीट दिया और जान से मारने की धमकी देकर मौके से भाग गया।

दलित युवक व उसकी पुत्रियों ने घटना की सूचना ज्ञान भारती चौकी प्रभारी को दी। सूचना मिलने के बाद भी मौके पर चौकी पुलिस नहीं पहुंची।

दलित व उसकी पुत्रियों के साथ हुई मारपीट की शिकायत पुलिस से करने पर हमलावर का पिता महेंद्र सिंह ठाकुर आक्रोशित हो गया और वह लगातार पीड़ित के घर जाकर जान से मारने की धमकी दे रहा है।

पीड़ित लड़कियों ने घटना की तहरीर चौकी पुलिस को दी। जिस पर सूचना के बाद भी चौकी पुलिस मौके पर नहीं पहुंची।

अब आप सोचों एक तरफ योगी सरकार दलितों के वोट बैंक लेने के लिए तरह तरह की योजनाएं लागू कर रही है लेकिन सच्चाई सामने आही जाती है। पूरे प्रदेश में सम्मान्य जाति के लोग दलितों पर लगातार अत्याचार कर रहे लेकिन दलितों की सुनवाई भी नहीं होती है।

जिसकी मिसाल कालपी कोतवाली के ग्राम सरसेला में देखने को मिली। साथ ही आजमगढ़ का मामला सामने है ।

Share.

Leave A Reply