उत्तर प्रदेश सरकार में संसदीय कार्य राज्य मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला ने देश के पहले शिक्षा मंत्री डॉ अबुल कलाम आजाद को लेकर विवादित बयान दे दिया है, उन्होंने डॉ अबुल कलाम आजाद गंभीर आरोप लगते हुए कहा कि देश के पहले शिक्षा मंत्री के हृदय में भारत व भारतीयता के प्रति स्थान नहीं था।

उन्होंने कहा दुर्भाग्य से मुझे कहने में कोई संकोच नहीं है देश के पहले शिक्षा मंत्री डॉ अबुल कलाम आजाद के दिल में भारत और भारतीयता के प्रति कोई स्थान नहीं था। यह बयान उन्होंने बलिया में जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय में आयोजित दिया।

शुक्ला ने आरोप लगाया कि मौलाना आजाद के बाद भी कई लोग रहे हैं जिन्होंने देश की शिक्षा को खराब किया। उन्होंने कहा कि एमसी छागला, नूरुल हसन और हुमायूं कबीर जैसे लोगों ने भारत की शिक्षा पद्धति को नुकसान पहुंचाया।’

मंत्री शुक्ला ने कहा कि इतिहासकारों ने इतिहास में औरंगजेब के किए जुल्मों को जगह नहीं दी जबकि हमेशा अकबर को महान बताने का काम किया। इतिहासकारों ने हमेशा अखंड भारत की बात करने वालों को सांप्रदायिक कहा।

योगी सरकार में संसदीय कार्य राज्य मंत्री शुक्ला आए दिन विवादास्पद बयान देते रहते हैं। इससे पहले शुक्ला ने कहा था कि लव जिहाद इस्लामीकरण को बढ़ावा देने का काम करता है। उन्होंने यूपी सरकार के लव जिहाद कानून का बचाव करते हुए ये बात कही थी।

Share.

Comments are closed.