कोरोना संकट के बीच भारत को वर्ल्ड बैंक ने बड़ी राहत दी है. सरकार के कार्यक्रमों के लिए वर्ल्ड बैंक ने एक बिलियन डॉलर के पैकेज का ऐलान किया है यह पैकेज सामाजिक सुरक्षा पैकेज होगा।

इससे पहले कोरोना से जंग के लिए भारत को ब्रिक्स देशों के न्यू डेवलपमेंट बैंक ने एक अरब डॉलर की आपातकालीन सहायता राशि देने का ऐलान किया था।

वर्ल्ड बैंक के इंडिया हेड जुनैद अहमद ने कहा कि वर्ड बैंक तीन क्षेत्रों में भारत सरकार के साथ भागीदारी करेगा – स्वास्थ्य, सामाजिक सुरक्षा और सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (MSME)

भारत के सामाजिक सुरक्षा को प्रवासियों, असंगठित श्रमिकों, पोर्टेबिलिटी और सिस्टम के एकीकरण का निर्माण करने के लिए प्रेरित किया जाता है।

विश्व बैंक के एक बिलियन डॉलर (करीब 7600 करोड़) सामाजिक सुरक्षा पैकेज पर वर्ल्ड बैंक के इंडिया हेड जुनैद अहमद ने कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली, जन धन, आधार और मोबाइल के मौजूदा बुनियादी ढांचे का यह गुल्लक है. बता दें, वर्ल्ड बैंक ने पहले ही 25 विकासशील देशों को पैकेज देने का प्रस्ताव किया था।

NDB ने की एक अरब डॉलर की मदद
इससे पहले न्यू डेवलपमेंट बैंक ने भारत को एक अरब डॉलर की आपातकालीन सहायता राशि देने का ऐलान किया था. उसका कहना था कि यह लोन इसलिए दे रहे हैं।

ताकि भारत को कोविड​​-19 के प्रसार को रोकने में मदद मिले और कोरोना वायरस महामारी से होने वाले मानवीय, सामाजिक और आर्थिक नुकसान को कम किया जा सके।

ADB ने की थी 1.5 अरब डॉलर की मदद
इसके अलावा एशियाई विकास बैंक (ADB) ने कोरोना से मदद के लिए भारत को 1.5 अरब डॉलर का पैकेज देने का ऐलान किया था इसका उद्देश्य भारत सरकार को COVID -19 के प्रसार को रोकने की लड़ाई में शामिल करना और कोरोनो वायरस के कारण होने वाले मानवीय, सामाजिक और आर्थिक नुकसान को कम करना है।

Share.

Comments are closed.