मध्यप्रदेश के बैतूल जिले में एक दलित महिला व उनकी बेटी को भाजपा के एक स्थानीय नेता ने बेरहमी से पीटा। इस घटना का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने इस मामले में शिकायत दर्ज की है। घटना सारणी कस्बे के शोभापुर काॅलोनी की है।

मामला 16 अगस्त का ही है, लेकिन घटना का वीडियो वायरल होने के बाद शुक्रवार, 21 अगस्त को पुलिस ने इस मामले में शिकायत दर्ज की है। भाजपा पार्षद के परिवार पर मारपीट का आरोप लगा है।

यह भी जाने-गुना कांड पर जिग्नेश मेवानी की चेतावनी, कहा- पुलिस पर हो FIR, उपचुनाव में BJP को वोट नहीं करेंगे दलित

पार्षद के पति प्रवीण सूर्यवंशी ने दलित महिला आशा गिरी के साथ मारपीट की। जब उन्हें बचाने उनकी बेटी आयी तो उसके साथ भी मारपीट की गई। वीडियो में महिला की बेटी की आवाज सुनी जा सकती है जिसमें वह उन्हें बचाने की कोशिश करने का प्रयास करती नजर आत है।

घटना के बाद जब पीड़ित पक्ष थाने में शिकायत दर्ज कराने पहुंच तो पुलिस ने शिकायत दर्ज नहीं की। लेकिन, जब 21 अगस्त को प्रदेश कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर एकाउंट पर इस मामले का वीडियो शेयर किया और सवाल उठाया तो सबके ध्यान में यह मामला आया और आनन-फानन में शिकायत दर्ज की गई।

यह भी जाने-गुना मामले में एक एसआई समेत छह पुलिसकर्मी सस्पेंड की, आईपीएस अधिकारी ने जांच शुरू की।

मध्यप्रदेश कांग्रेस ने इस मामलें में ट्वीट किया, एक दलित मां-बेटी की बीजेपी नेताओं द्वारा पिटाई का वीडियो वायरल हो रहा है। बीजेपी नेता हैं इसलिए रिपोर्ट भी नहीं लिखी जा रही है। शिवराज जी, आपका यह जंगलराज लोकतांत्रिक व्यवस्था पर दाग है।

यह भी जाने-इंदौर : गुना में पुलिस और प्रशासन के द्वारा दलितों पर किए गए अत्याचार के विरोध में प्रदेश में नहीं बल्कि देश में आंदोलन हुए शुरू

वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस नेता कमलनाथ के आफिस के ट्विटर एकाउंट से इस घटना का वीडियो ट्वीट किया गया और उसमें लिखा गया कि बैतूल के सारणी क्षेत्र के शोभापुर में एक दलित महिला व उनकी बेटियों से बदसलूकी का विरोध करने पर भाजपा नेताओं द्वारा सार्वजनिक रूप से बेरहमी से मारपीट की घटना सामने आयी है।

शिवराज जी, आप की सरकार में बहन-भाँजियो के साथ इस तरह की घटनाएँ घटित हो रही है और दोषियों को बचाया जा रहा है।

यह भी जाने-गुना दलित पर अत्याचार : क्या शिवराज सरकार में दम है ? तथाकथित जनसेवकों व रसूख़दारों द्वारा क़ब्ज़ा की गयी हज़ारों एकड़ शासकीय जमीन छुड़ा ले – कमलनाथ

इस पूरे मामले में दोषियों पर तत्काल कार्यवाही हो व एक महिला व उसकी बेटियों को न्याय मिले। जानकारी के अनुसार, मामला दर्ज किया गया है, लेकिन उसमें दलित उत्पीड़न की धाराओं का प्रयोग नहीं किया गया है।

इससे आरोपियों के बचने की संभावना बढ जाती है। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपनी छवि मामा की बनायी है और वे लोगों की बहन-बेटियों की सुरक्षा का दावा करते हैं।

यह भी जाने-मध्य प्रदेश गुना कि ये तस्वीरें दलितों के साथ हुए अत्याचार को दर्शाती हैं, कि उन्हें मजबूर होकर ज़हर क्यों खाना पड़ा।

लेकिन जब उनकी ही पार्टी के लोग खुले आम गुंडगर्दी करते हैं तो ऐसे दावे पर सवाल उठ जाता है। सोशल मीडिया पर भी इस घटना की लोग निंदा कर रहे हैं।

Share.

Comments are closed.