नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (Rajiv Gandhi) की जयंती पर छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में किसानों, वनवासियों और गोबर विक्रेताओं के खाते में 1737.50 करोड़ रुपए सरकार ने डाले हैं।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री निवास में आयोजित कार्यक्रम में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (Video Conferencing) के जरिए जुड़े रहे।

राज्य सरकार ने आज राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत किसानों को दूसरी किस्त के 1500 करोड़ की सहायता राशि दी।

वहीं, तेंदूपत्ता संग्राहकों को प्रोत्साहन पारिश्रमिक और गोधन न्याय योजना की राशि उनके खातों में सरकार ने डाली है।

संजीवनी साबित हुई राजीव गांधी किसान न्याय योजना

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Chief Minister Bhupesh Baghel) ने कहा कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना हमारी न्याय दिलाने की विरासत से जुड़ी हुई है।

उन्होंने बताया कि राजीव गांधी कहते थे यदि किसान कमजोर हो जाएगा तो देश अपनी आत्मनिर्भरता खो देगा। किसानों के मजबूत होने से ही देश मजबूत होता है।

राजीव गांधी गरीबों, आदिवासियों, किसानों के उत्थान के लिए सतत प्रयास करते थे। उनके ही सपनों को साकार करने के लिए छत्तीसगढ़ में राजीव गांधी किसान न्याय योजना की शुरुआत की है. यह योजना किसानों के लिए संजीवनी साबित हुई है।

किसानों को दी गई दूसरी किस्त: गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ देश में पहला राज्य है जो किसानों को सीधे तौर पर बैंक खातों में ट्रांसफर कर 5700 करोड़ की राहत राशि प्रदान कर रहा है। योजना की शुरुआत राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर 21 मई को की गई थी।

तब 19 लाख किसानों को सहायता राशि की पहली किस्त 1500 करोड़ जारी की गई थी। राजीव गांधी की जयंती पर किसानों को दूसरी किस्त की सहायता राशि जारी की गई।

Share.

Comments are closed.