कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने कहा कि देश में एन-95 मास्क, फेस मास्क, वेंटिलेटर व मेडिकल इक्यूपमेंट की कमी हो रखी है।

लेकिन सरकार ने चार दिन पहले 19 मार्च को 10 गुना दाम पर इन्हें निर्यात करने की मंजूरी दे दी है। उन्होंने कहा कि ये कदम जनता, डॉक्टर, नर्स और मेडिकल प्रोफेशनल की सेहत के साथ खिलवाड़ है।

सुरजेवाला ने कहा कि पीएम मोदी के आह्वान पर रविवार को पूरे देश ने तालियां और थालियां बजाई। लेकिन अब ये सामने आया है कि कोरोनावायरस का इलाज कर रहे डॉक्टर, नर्स व हेल्थ प्रोफेशनल की सेहत से खिलवाड़ किया जा रहा है।

आज देश में मरीज को वेंटिलेटर चाहिए, डॉक्टर को एन-95 मास्क चाहिए। लेकिन सरकार ने 19 मार्च को इन चीजों को 10 गुना दाम पर निर्यात करने की अनुमति दे दी।

सुरजेवाला ने कहा कि एम्स में भी पूरे एन-95 मास्क नहीं है। ऐसा खिलवाड़ क्यों हो रहा है। पीएम मोदी को कॉमर्स मंत्री और कॉमर्स सचिव को बर्खास्त करना चाहिए। इसकी जांच होनी चाहिए, आपराधिक मुकदमा दर्ज होना चाहिए। उम्मीद है संकट की इस घड़ी में पीएम मोदी कार्रवाई करेंगे। उन्होंने निर्यात की इजाजत वाले कागज भी प्रूफ के तौर पर मीडिया को दिखाए हैं।

देश में वेंटिलेटर, मास्क और सेनिटाइजर की कमी, कई सरकारें कर रही कालाबाजारी पर कार्रवाई

कोरोनावायरस के चलते अचानक से देशभर में मास्क और सेनिटाइजर की डिमांड बढ़ गई है। वहीं वेंटिलेटर की डिमांड भी है। ऐसे में कुछ राज्यों में मास्क और सेनिटाइजर की कालाबाजारी भी की गई।

इसी तरह हरियाणा में कालाबाजारी पर लगाम लगाने के लिए सरकार ने सख्त नियम बनाए हैं। इन्हें आवश्यक वस्तुओं में जोड़ा गया है। स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ खाद्य आपूर्ति विभाग की टीम को छापेमारी का अधिकार दिया गया।

कई जगह मेडिकल स्टोर से मास्क का स्टॉक पकड़ा भी गया। अभी भी एन-95 मास्क की कमी है। इसी तरह राजस्थान सरकार ने भी सख्त कदम उठाए और कालाबाजारी करने वालों पर लगाम कसी है।

इसे भी जाने : सिर्फ 40,000 वेंटिलेटर के दम पर भारत कोरोना से जंग चिंता का विषय है

Share.

Comments are closed.