दिल्ली : नागरिकता कानून के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन को लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) के एक बड़े नेता ने बड़ा बयान दिया है ।

पश्चिम बंगाल BJP के प्रमुख दिलीप घोष ने कहा कि जो लोग शाहीन बाग में इस कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं, आखिर उनमें से कोई मर क्यों नहीं रहा है।

उन्होंने कहा कि शाहीन बाग में प्रदर्शनकारियों को कुछ क्यों नहीं हो रहा जबकि वे दिल्ली की भीषण ठंड में खुले में प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं बंगाल में सीएए और प्रस्तावित राष्ट्रव्यापी एनआरसी से घबराए लोग खुदकुशी तक कर रहे हैं ।

तो क्या शाहीन बाग के लोगों ने अमृत पी लिया है घोष ने इस बात पर हैरानी जताई कि महिलाओं और बच्चों समेत प्रदर्शन में शामिल लोग क्यों बीमार नहीं पड़ रहे या मर क्यों नहीं रहे हैं जबकि वे हफ्तों से खुले आसमान के नीचे प्रदर्शन कर रहे हैं।

भाजपा सांसद ने यह भी जानना चाहा कि आखिरकार इस प्रदर्शन के लिये रकम कहां से आ रही है। हलांकी इससे पहले भाजपा नेता ने कहा था कि प्रदर्शन पैसा लेकर किया जा रहा है ।

शाह का इरादा दिल्ली में 50 से ज्यादा इस तरह की जनसभाएं करने का है. जनसभाएं अलग-अलग जगह होती है लेकिन राम मंदिर, जेएनयू और नागरिकता कानून पर भाषा एक ही जैसी है।

यही नहीं अगले दो हफ्तों में बीजेपी के 250 नेता करीब 10000 छोटी जनसभाएं करेंगे और हर जनसभा में CAA के खिलाफ चल रहे शाहीन बाग का प्रदर्शन, राम मंदिर, जेएनयू और पाकिस्तान जैसे मुद्दों पर वोटों का ध्रुवीकरण करने की रणनीति है ताकि इसका सियासी फायदा उठाया जा सके. 

Share.

Comments are closed.